ज्योतिष क्या है ?

सामान्य या आम बोल चाल की भाषा में ज्योतिष शास्त्र ग्रहों , नक्षत्रो, राशियों आदि का मानव पर पड़ने वाले प्रभाव का अध्ययन शास्त्र है. मेरे मतानुसार ज्योतिष शास्त्र भुत, भविष, और वर्त्तमान तीनो कालो में घटने वाली क्रियाकलापों को देखने वाला दिव्या नेत्र है. या यु कहे की ज्योतिष समय (काल) व मानव के आर पार देखने की कला है , इसके द्वारा किसी की भी मनुष्य के न केवल भुत, भविष्य , वर्त्तमान के बारे में भी जाना जा सकता है.

ज्योतिष अपने आप में संपूर्ण विज्ञानं (Science ) है , जिस तरह physcis , chemistry , biology विज्ञानं है, इसमें सूर्य , चन्द्र तथा अन्य ग्रह साक्षी है और यह शास्त्र भगवान वेद की दिव्य नयन है. यह शास्त्र संदेह को दूर भागने वाला , सब कुछ प्रत्यक्ष दिखाने वाला नेत्र स्वरुप है.

"We not say 'Astrology'. We Indians, say 'JYOTISHI', 'JYOT' - light & 'ISH' - God. Therfore 'Light of God'. Asrtology is a MIRROR to life. It is also a Guide Line. It is certainly Not 100% correct.

Astrology is the study of celestial bodies interpreted as affecting personality, human affairs, and natural events. The primary astrological bodies are the Sun, Moon, and planets,which are analyzed by their aspects (relative positions to one another), by their placement in 'houses' (spatial divisions of the sky), and their movement through signs of the zodiac (spatial divisions of the ecliptic)

Design & Developed by: Novel Web Creation